RSS के गढ़ नागपुर से ही क्यों हो रही कांग्रेस की महारैली? मल्लिकार्जुन खरगे से खुद जानिए जवाब

 


कांग्रेस पार्टी गुरुवार (28 दिसंबर) को अपना 139वां स्थापना दिवस मना रही है. कांग्रेस स्थापना दिवस को खास बनाने के लिए महाराष्ट्र के नागपुर में ‘हैं तैयार हम’ रैली का आयोजन कर रही है. नागपुर में ही इस रैली के आयोजन को लेकर जब कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि हम अपनी विचारधारा का नागपुर से संदेश देना चाहते हैं. नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का मुख्यालय भी है.

कांग्रेस की नजर अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव पर है. नागपुर में पार्टी के स्थापना दिवस के मौके पर विशाल रैली के जरिए चुनावी अभियान का आगाज किया जा रहा है. रैली को ‘हैं तैयार हम’ का नाम दिया गया है, जिसके जरिए लोगों को पार्टी के साथ जोड़ा जाएगा. कांग्रेस हमेशा से ही कहती आई है कि वह अपनी विचारधारा पर चलने वाली पार्टी है और वह बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा के साथ चल रही लड़ाई को लड़ती रहेगी. 

अपनी विचारधारा से आगे बढ़ेगी पार्टी: खरगे

मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा, 'कांग्रेस पार्टी अपनी विचारधारा से कभी झुकने वाली नहीं है. अपनी विचारधारा से ही पार्टी आगे बढ़ेगी. इसके लिए हम नागपुर से संदेश देना चाहते हैं.' जब उनसे 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव और इस रैली के बीच कनेक्शन को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'हर चीज में चुनाव नहीं होता है, ये तो उत्सव है. हालांकि, इसके जरिए हम अपने लोगों को संदेश देंगे कि 2024 को ध्यान में रखते हुए भी काम करने की जरूरत है.'

बदलाव का संदेश देगी कांग्रेस: नाना पटोले

वहीं, महाराष्ट्र कांग्रेस चीफ नाना पटोले ने पार्टी की महारैली को देश के लोगों के लिए ऐतिहासिक क्षण बताया है. उन्होंने कहा कि नागपुर से बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस बदलाव का संदेश देने वाली है. नागपुर से कांग्रेस विधायक निति राउत ने कहा कि कांग्रेस अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए यहां से बिगुल बजाने वाली है. नागपुर में सिर्फ आरएसएस का मुख्यालय ही नहीं है, बल्कि यहां पर ही ऐतिहासिक स्थल ‘दीक्षाभूमि’ है, जहां डॉ. बी आर आंबेडकर ने बौद्ध धर्म अपनाया था.

Previous Post Next Post