मध्य प्रदेश विधानसभा से हटाई गई पंडित नेहरू की तस्वीर, बाबासाहेब की तस्वीर को मिली जगहmadhya-pradesh-assembly

 


मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की नई सरकार ने सोमवार को पहला विधानसभा सत्र आयोजित किया था और सदन में दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की तस्वीर को हटाकर दिवंगत नेता डॉ बी.आर. अम्बेडकर की तस्वीर लगाए जाने के चलते विवाद पैदा हो गया. विधानसभा में स्पीकर की कुर्सी के पीछे लगी दो में से एक तस्वीर पंडित नेहरू की थी, और दूसरी तस्वीर महात्मा गांधी की है, जो सदन में अब भी मौजूद है.

इस बदलाव के चलते विपक्षी कांग्रेस पार्टी ने विरोध जताया, और BJP पर 'इतिहास को मिटाने के लिए दिन-रात जुटे रहने' का आरोप लगाया. पार्टी प्रवक्ता अब्बास हफ़ीज़ ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट X (अतीत में ट्विटर) पर पोस्ट किया, "हम मध्य प्रदेश विधानसभा से नेहरूजी की तस्वीर हटाने की निंदा करते हैं..."


अब्बास हफ़ीज़ ने कहा, "यह देश के लिए दुर्भाग्य की बात है कि आज BJP सत्ता में है... BJP इतिहास को मिटाने के लिए दिन-रात जुटी हुई है... दशकों से विधानसभा में लगी देश के पहले प्रधानमंत्री की तस्वीर को हटाना BJP की मानसिकता को दर्शाता है..."


विधानसभा में विस्फोटक टकराव के लिए मंच तैयार करते हुए अब्बास हफ़ीज़ ने घोषणा की, "तस्वीर को तुरंत वापस लगाया जाना चाहिए... अन्यथा हम नेहरूजी की तस्वीर उसी स्थान पर लगा देंगे..."


विधानसभा का पहला सत्र - संक्षिप्त चार-दिवसीय शीतकालीन सत्र - प्रोटेम स्पीकर गोपाल भार्गव द्वारा नए विधायकों को शपथ दिलाने के साथ शुरू हुआ. सत्र में गंधवानी सीट से जीतने वाले कांग्रेस के उमंग सिंघार को विपक्ष का नेता चुना गया.


पिछले महीने हुए चुनाव में शानदार जीत के बाद मध्य प्रदेश पर BJP का कब्ज़ा बरकरार रहा. पार्टी ने 230 में से 163 सीटों पर जीत हासिल की, और कांग्रेस को पिछली बार से 48 कम, यानी केवल 66 सीटों से संतोष करना पड़ा.


विधानसभा के पूर्णकालिक स्पीकर के तौर पर BJP ने पूर्व केंद्रीय कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को प्रत्याशी बनाया है. नरेंद्र सिंह तोमर इस चुनाव में BJP द्वारा मैदान में उतारे गए तीन पूर्व केंद्रीय मंत्रियों में से एक हैं.

पिछले हफ़्ते ही BJP ने कई दिन तक चली चर्चा के बाद राज्य के लिए नया मुख्यमंत्री तय किया था. चुनाव जीतने के समय मुख्यमंत्री रहे दिग्गज नेता शिवराज सिंह चौहान के स्थान पर BJP ने सभी को हैरान करते हुए तीन बार के विधायक और पूर्व शिक्षामंत्री मोहन यादव को शीर्ष पद पर नामित किया.






Previous Post Next Post