अल्ला हू अकबर का लगाया नारा और मार दिया चाकू... फ्रांस में आइफिल टावर के पास बड़ा हमला


 फ्रांस में शनिवार की रात राहगीरों को निशाना बनाने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है और इसकी पहचान हो गई है। घटना का आरोपी एक फ्रांसीसी ईरानी चाकूबाज है। इस घटना में एक पर्यटक की मौत हो गई थी। वहीं दो घायल हुए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक हमलावर मानसिक समस्याओं से ग्रसित एक सजायाफ्ता आतंकवादी है। 2020 में 26 वर्षीय आर्मंड रजबपुर-मियांदोआब को जेल से रिहा कर दिया गया। मनोरोग और न्यूरो से जुड़ी बीमारियों के उपचार के दौरान उसने अपने माता-पिता का घर भी छोड़ दिया।रविवार को उसे सुरक्षा बलों ने पकड़ लिया। उस पर एफिल टावर के पास हुए खून-खराबे के बाद हत्या सहित कई आरोप लगाए गए। रजबपुर-मियांदोआब चाकू लेकर एक जर्मन जोड़े के पीछे दौड़ा। उसके हमले में 24 साल के जर्मन-फिलिपीनो पर्यटक की मौत हो गई। इसके बाद उसने हथौड़े से एक ब्रिटिश पिता समेत दो लोगों पर हमला किया। पुलिस के मुताबिक जब उसने वारदात को अंजाम दिया तो वह अल्ला हू अकबर के नारे लगा रहा था।


ISIS के संपर्क में आया

साल 2016 में रजबपुर-मियांदोआब को आतंकी साजिश के मामले में चार साल की सजा सुनाई गई थी। वह दो ईरानी शरणार्थियों का बेटा है, जो फ्रांस में पैदा हुआ। ISIS समर्थकों के ऑनलाइन संपर्क में आने के बाद उसने 2015 में इस्लाम अपना लिया। जून 2016 में मैग्नानविले में दो पुलिस अधिकारियों की चाकू मारकर हत्या करने वाले आतंकी लारोसी अबल्ला के साथ संपर्क में था। उसका दूसरा फेसबुक फ्रेंड एडेल केर्मिच था, जिस पर 2016 में एक कैथोलिक पादरी की चाकू मारकर हत्या करने का आरोप है।


फास्फोरस बम बनाने की ले रहा था ट्रेनिंग

रिपोर्ट्स के मुताबिक 2020 में उसे मनोरोग और न्यूरो से जुड़ी समस्याओं के उपचार वाले कार्यक्रम में रखा गया। 2018 में उसने अदालत में कहा था, 'इस्लामवाद ने मेरा जीवन बर्बाद कर दिया।' इसके अलावा उसने यह भी दावा किया कि वह सारे काम करता है जो मुस्लिमों के लिए वर्जित हैं, जैसे बीयर पीना और और सूअर का मांस खाना। लेकिन उसकी ऑनलाइन एक्टिविटी दिखाती है कि वह अभी भी फॉस्फोरस बम बनाने की कोशिश कर रहा था। फ्रांस के गृह मंत्री गेराल्ड दार्मेनिन ने कहा कि अपनी गिरफ्तारी के बाद उसने विशेष रूप से फलस्तीनी क्षेत्रों में मुसलमानों के मरने पर दुख व्यक्त किया और दावा किया कि फ्रांस ने इजरायल का सहयोग किया।

Previous Post Next Post