प्राण प्रतिष्ठा पर BJP के हमलों के बीच मल्लिकार्जुन खरगे की सफाई


राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह को लेकर कांग्रेस और बीजेपी एक दूसरे पर हमलावर है. बीजेपी कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के समारोह का निमंत्रण ठुकराने को लेकर कह रही है देश के सामने इनका असली चेहरा सामने आ गया है. इस बीच खरगे ने कहा कि बीजेपी जो भी कर रही है वो ठीक नहीं है. 

खरगे ने कहा, ''मुझे जो निमंत्रण दिया गया, वो पर्सनल है. इसके बारे में मैं बाद में कहूंगा. आस्था रखने वाले लोग आज भी जा सकते है, कल या परसों भी जा सकते हैं. मैंने 6 तारीख को ही बयान दे दिया कि जिसकी जो इच्छा वो वैसे करें. फिर भी पलट-पलट कर हम पर वार करना ठीक नही है. ये बीजेपी की साजिश है और वो इसे मुद्दा बना रहे हैं. हमारा मकसद किसी धर्म को दुख पहुंचाना नहीं है.''

दरअसल, राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए खरगे, कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी और अधीर रंजन चौधरी को निमंत्रण भेजा गया था. कांग्रेस ने इस निमंत्रण को ठुकराते हुए कहा था कि बीजेपी और आरएसएस चुनावी लाभ के लिए ऐसा कर रही है. 

कांग्रेस ने क्या कहा?

कांग्रेस की ओर से शुक्रवार (13 जनवरी) को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए पवन खेड़ा ने कहा कि 22 जनवरी को अयोध्या में होने वाला प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम धार्मिक नहीं बल्कि पूरी तरह से राजनीतिक है. ऐसा इसलिए क्योंकि विधि-विधान से और चारों पीठों के शंकराचार्यों की देखरेख में नहीं किया जा रहा है.

खेड़ा ने सवाल किया कि मंदिर में कौन आएगा और कौन नहीं, ये बताने वाले आप कौन हैं? प्राण प्रतिष्ठा में VVIP एंट्री लगाने वाले आप कौन हैं? कैमरों की फौज लेकर आधी-अधूरी प्राण प्रतिष्ठा करने वाले आप कौन हैं? विज्ञापन में भगवान राम को उंगली पकड़ाकर चलाने वाले आप कौन हैं, क्या आप भगवान से ऊपर हैं?

खेड़ा ने कहा, ' 'यह कोई राजनीतिक दल तय नहीं कर सकता कि मैं अपने भगवान से मिलने जाऊं या ना जाऊं. मंदिर में कम से कम किसी इंसान को तो नहीं बुलाया जाता है और न ही किसी को रोका जाता है, लेकिन यहां तो एक उलटी गंगा बहाई जा रही है. ''

बीजेपी का क्या कहना है?

कांग्रेस के शीर्ष नेताओं के राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण ठुकराने को लेकर बीजेपी निशाना साध रही है. बीजेपी ने शुक्रवार को एक वीडियो जारी किया. इसमें खरगे और सोनिया गांधी की फोटो डालकर राम विरोधी कांग्रेस लिखा हुआ है. 

बीजेपी ने वीडियो शेयर कर कैप्शन लिखा है कि भगवान श्रीराम का विरोध है कांग्रेस की परंपरा. वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री औऱ बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि पूरी दुनिया प्रतीक्षा कर रही है. कानून सम्मत निर्माण हो रहा है. इस बार ये हाल होगा कि वोट मांगने लायक नहीं रहेंगे. 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 2019 में अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया था और एक मस्जिद के निर्माण के लिए पांच एकड़ का वैकल्पिक भूखंड मुहैया कराने का आदेश दिया था. इसके बाद अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण का काम शुरू हुआ.

आगामी 22 जनवरी को राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सहित हजारों लोग शामिल होंगे. 

Previous Post Next Post