अतीक अहमद की तरह मुख्तार अंसारी पर हो सकता है हमला! माफिया के छोटे बेटे ने योगी सरकार पर लगाए कौन से आरोप?

 


उत्तर प्रदेश में कभी माफियाओं का बोलबाला था। सालों तक यूपी में अतीक अहमद और मुख्तार अंसारी की तूती बोलती रही। क्राइम की दुनिया से इन्होंने राजनीति में कदम रखा, लेकिन अपराध जगत को कभी छोड़ ही नहीं पाए। राज्य में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद तस्वीर बदलने लगी। चाहे अतीक अहमद हो या फिर मुख्तार अंसारी इनके काले कारनामे सामने आने लगे। योगी आदित्यनाथ ने माफिया राज के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोल दिया। अतीक अहमद और मुख्तार अंसारी कोर्ट से इनके किए की सजा मिली।

अतीक के बाद क्या मुख्तार की हो सकती है हत्या?

यहां तक सब कुछ ठीक था, लेकिन इसी साल 15 अप्रैल को अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की हत्या कर दी गई। अतीक अहमद को साबरमती जेल से उत्तर प्रदेश लाया गया था। उस रात अतीक और अशरफ को मेडिकल के लिए प्रयागराज ले जाया जा रहा था। तभी अचानक उन्हें गोलियों से भून डाला गया। आरोपियों ने धांय-धांय-धांय गोलियां चलाई और मौके पर ही दोनों भाइयों की मौत हो गई। इस हत्या ने पुलिस सुरक्षा पर सवाल खड़े किए। कई सवाल उठने लगे। अतीक अहमद ने अपनी जान को पहले ही खतरा बताया था, लेकिन बावजूद इसके उसकी सुरक्षा में इतनी चूक कैसे हुई।

बांदा जेल में सुरक्षित नहीं है उत्तर प्रदेश का माफिया?

अब अतीक अहमद के बाद उत्तर प्रदेश के दूसरे माफिया मुख्तार अंसारी के परिवार को भी वही चिंता सता रही है जो अतीक को थी। मुख्तार और उसके परिवार को लगता है कि उसकी भी हत्या हो सकती है। मुख्तार अंसारी को कई मामलों में सजा हो चुकी है। वो सालों से बांदा जेल में बंद है। कुछ समय पहले मुख्तार अंसारी ने कोर्ट से उसकी सुरक्षा की अपील की थी। मुख्तार ने कहा था कि जेल के अंदर वो सुरक्षित नहीं है।

छोटे बेटे ने यूपी सरकार पर लगाए बड़े आरोप

अब एक बार फिर मुख्तार अंसारी के बेटे ने अपने पिता की सुरक्षा को लेकर कोर्ट से गुहार लगाई है। मुख्तार अंसारी के छोटे बेटे उमर अंसारी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। उमर ने अपने पिता की जान को गंभीर खतरा बताया है और उन्हें उत्तर प्रदेश की बांदा जेल से किसी दूसरी जेल में शिफ्ट करने की मांग की है। उमर ने कहा कि जेल में उनके पिता के खिलाफ जान से मारने की साजिश रची जा रही है और इस साजिश में इस साजिश में सरकारी प्रतिष्ठानों और एजेंसियों से जुड़े लोग भी शामिल हैं। इस याचिका में उमर अंसारी ने राज्य सरकार के खिलाफ भी अपनी शिकायत दर्ज करवाई है। याचिका में उन्होंने कहा है कि राज्य सरकार उनके परिवार का लगातार उत्पीड़न कर रही है।

जेल में रची जा रही है माफिया की हत्या की साजिश?

मुख्तार अंसारी ने खुद भी कई बार अपनी जान को खतरा बताया है। मुख्तार कुछ समय पहले डर जताया था है कि यूपी का एक और डॉन बृजेश सिंह और माफिया सुंदर भाटी गैंग का बंदीरक्षक अजीत गौतम जेल में उसकी हत्या कर सकता है। अजीत गौतम पहले सोनभद्र जेल में बंदीरक्षक थे, लेकिन बाद में उन्हें बांदा जेल भेजा गया था। इस बात से ही मुख्तार अंसारी का डर बढ़ गया था।

Previous Post Next Post