मणिपुर के तेंगनौपाल में उग्रवादियों के दो समूहों के बीच गोलीबारी, 13 लोगों की मौत

 


मणिपुर के तेंगनौपाल जिले में उग्रवादियों के दो समूहों के बीच गोलीबारी में 13 लोगों की मौत हो गई है. न्यूज़ एजेंसी पीटीआई ने अधिकारियों के हवाले से ये जानकारी दी है. अधिकारी ने कहा कि यह घटना सोमवार दोपहर को लीथू गांव में हुई.

उन्होंने कहा, ''म्यांमार जा रहे उग्रवादियों पर इलाके में प्रभावी विद्रोहियों के एक अन्य समूह ने घात लगाकर हमला किया. मौके पर पहुंचे सुरक्षाबलों को 13 शव मिले हैं, उनकी पहचान अभी तक नहीं हो पाई है. अधिकारी ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि वे स्थानीय निवासी नहीं थे. तेंगनौपाल जिला म्यांमार के साथ सीमा साझा करता है.

मणिपुर हिंसा

बता दें कि इसी साल मई महीने में राज्य में हिंसा की चिंगारी सुलगी थी. इसी के बाद हजारों लोगों को विस्थापित होना पड़ा और करीब 175 लोगों की जान चली गई. ज्यादातर इलाके में अब भी इंटरनेट बंद हैं. हिंसा के दौरान दो महिला के साथ शर्मनाक हरकत का वीडियो सामने आने के बाद पीएम मोदी ने इसकी निंदा की और न्याय का भरोसा दिलाया.

हिंसा से जुड़े मामलों की सीबीआई जांच कर रही है. वहीं विपक्ष हिंसा को लेकर सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाती रही है. संसद हो या चुनावी रैलियां हिंसा को लेकर विपक्षी पार्टियां बीजेपी सककार को निशाने पर लेती रही है.

यूएनएलएफ से शांति समझौता

हाल ही में सरकार ने मणिपुर के सबसे पुराने उग्रवादी संगठन यूनाइटेड नेशनल लिबरेशन फ्रंट (यूएनएलएफ) के बीच हाल में शांति समझौते. एनएलएफ के साथ शांति समझौते की प्रक्रिया तीन साल पहले शुरू हुई थी.

इसको लेकर मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने कहा कि लोगों के समर्थन के बिना, यह शांति समझौता साकार नहीं हो पाता. मैं समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए सहमत होने के वास्ते यूएनएलएफ को धन्यवाद देता हूं.


Previous Post Next Post