'BJP में शामिल होने के लिए मजबूर किया जा रहा है', अरविंद केजरीवाल का छोड़ा नया 'शिगूफा'

 


दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने रविवार को बड़ा दावा करते हुए कहा कि उन्हें भाजपा (BJP) में शामिल होने के लिए मजबूर किया जा रहा है. उनका यह बयान आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोपों की हो रही जांच के बीच आया है. आप सुप्रीमो ने दिल्ली के रोहिणी में एक स्कूल की नींव रखने के बाद कहा कि ‘वे हमारे खिलाफ कोई भी साजिश रच सकते हैं, मगर मैं भी दृढ़ हूं. मैं झुकने वाला नहीं हूं. वे मुझसे बीजेपी में शामिल होने के लिए कह रहे हैं, तब वे मुझे छोड़ने की बात कर रहे हैं. लेकिन मैंने कहा कि मैं बीजेपी में कभी नहीं जाऊंगा. मैं भाजपा में कभी शामिल नहीं होऊंगा, बिल्कुल भी नहीं.’


एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अपने भाषण में केजरीवाल ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार राष्ट्रीय बजट का केवल 4 प्रतिशत स्कूलों और अस्पतालों पर खर्च करती है. जबकि दिल्ली सरकार हर साल अपने बजट का 40 प्रतिशत इन पर खर्च करती है. दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जेल में बंद अपने आप सहयोगियों मनीष सिसौदिया और सत्येन्द्र जैन का भी जिक्र किया. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ‘आज सभी एजेंसियां हमारे पीछे पड़ी हैं. मनीष सिसौदिया की गलती यह है कि वह अच्छे स्कूल बना रहे थे. सत्येन्द्र जैन की गलती यह है कि वह अच्छे अस्पताल और मोहल्ला क्लीनिक बनवा रहे थे.’


केजरीवाल के आरोपों पर दिल्ली पुलिस का एक्शन

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर मनीष सिसौदिया स्कूल के बुनियादी ढांचे की बेहतरी के लिए काम नहीं कर रहे होते, तो वह ऐसा नहीं कर पाते. उनको गिरफ्तार कर लिया गया है. उन्होंने हर तरह की साजिश रची, लेकिन हमें रोक नहीं सके. केजरीवाल ने वहां मौजूद लोगों से उन्हें अपना प्यार और आशीर्वाद देते रहने के लिए कहा, साथ ही उन्होंने कहा कि वह कुछ और नहीं चाहते हैं. अरविंद केजरीवाल का यह बयान रविवार को दिल्ली पुलिस के विधायकों की खरीद-फरोख्त के दावों के संबंध में नोटिस देने के लिए आप मंत्री आतिशी के घर जाने के कुछ घंटों बाद आया. आप ने दावा किया है कि बीजेपी ने उसके 7 विधायकों को तोड़ने की कोशिश की.


केजरीवाल से मांगे गए सबूत

बहरहाल मंत्री आतिशी घर पर नहीं थीं, इसलिए नोटिस दिल्ली शिक्षा मंत्री के ओएसडी को मिला. आतिशी को सोमवार (5 फरवरी) तक नोटिस का जवाब देने को कहा गया है. इस मामले में अरविंद केजरीवाल को भी नोटिस दिया गया था. शनिवार को पांच घंटे के नाटक के बाद दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रॉन्च ने मुख्यमंत्री केजरीवाल को नोटिस दिया, जिसमें उनसे आरोप के संबंध में तीन दिनों के भीतर जवाब देने को कहा गया. पुलिस ने अरविंद केजरीवाल से आरोपों की जांच में शामिल होने और उन आप विधायकों के नाम बताने को कहा है, जिनसे कथित तौर पर भाजपा ने संपर्क किया था.

Previous Post Next Post