आपके जूते कैसे कर रहे हैं आपको बीमार? कहीं आपके पास भी तो ये वाले नहीं हैं?

 


आजकल मार्केट में तरह-तरह के डिजाइन, लुक, ब्रांड वाले जूते आ गए हैं. लोग ब्रांड और कीमत देखकर जूतों को खरीदते हैं. क्या आप जानते हैं कि जिन जूतों को आप इतनी पसंद से खरीदते हैं वे आपको बीमार भी बना सकते हैं. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, जूतों की वजह से आर्थराइटिस, घुटने की दिक्कत, नॉकनिक, फ्लैटफिट और बोलैग जैसी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं. हाल ही में BHU के फिजिकल एजुकेशन में हुए एक रिसर्च में बताया गया कि जूतों को कंफर्ट के अनुसार न खरीदने से 23 प्रतिशत युवा खिलाड़ी वक्त से पहले ही अनफिट हो जाते हैं. आइए जानते हैं क्या कहता है रिसर्च और कहीं आप भी तो इन जूतों को नहीं पहन रहे हैं...

क्या कहता है जूतों पर हुआ रिसर्च

बीचएयू आर्ट फैकेल्टी के डिपार्टमेंट ऑफ फिजिकल एजुकेशन के स्टूडेंट सौरभ मिश्रा ने जूतों पर रिसर्च किया. जूतों को किस आधार पर चुनना चाहिए, इसे लेकर क्वेश्चन बेस सर्वे किया गया. जिसमें 15-25 साल तक के 1000-1500 खिलाड़ियों से कुछ सवाल पूछे गए. सर्वे में पाया गया कि बॉडी के बैलेंस और पैरों के आर्क के अनुसार, जूते न पहनने से पैरों में परेशानियां आने लगती हैं, जो आगे चलकर पैरों को सही विकास को भी रोक सकती है. ये दिक्कत अर्थराइटिस, घुटने की दिक्कत, नॉकनिक, फ्लैटफिट और बोलैग की भी हो सकती है. इसी वजह से 25% खिलाड़ी युवा होते ही अनफीट हो जाते हैं.

 

बच्चों को न पहनाएं इस तरह के जूते

ये रिसर्च स्पोर्ट्स शूज पर की गई पहली रिसर्च है. जिसमें बताया गया कि पैरेंट्स में बच्चों को बड़ा जूता दिलाने की आदत गलत है, क्योंकि बड़े जूते पहनने से बच्चों के पैरों का विकास काफी हद तक प्रभावित होता है, जो आगे चलकर कई तरह की परेशानियों का कारण बन सकता है. रिसर्च में बताया गया कि CSIR की लैब चैन्नई में सेंट्रल लेदर इंस्टीट्यूट इंडियन फुटवियर साइजिंग पर अध्ययन कर रही है. चूंकि विदेशों में जूते बेचने वाली कंपनियां कस्टमर्स के पैरों की बनावट के हिसाब से जूते तैयार करती हैं. ये महंगा तो होता है ल्किन पैरों की सेहत के लिए सही होता है, जबकि भारत में ऐसा नहीं होता है.

 

किस तरह के जूते खरीदने चाहिए

इस रिसर्च में बताया गया कि खिलाड़ी हो या आम आदमी जूते सस्ते, सुंदर और टिकाऊ देखकर खरीदते हैं. जो कि गलत है, अगर आप भी इस तरह के जूते पहन रहे हैं तो तुरंत अपनी आदत बदल लें, क्योंकि जूते हमेशा कंफर्ट को देखकर ही खरीदने चाहिए. शरीर के हिसाब से भी जूतों का चयन करना चाहिए. जूते कितनी देर तक पहन सकते हैं, इसका भी ख्याल रखना चाहिए. इसलिए जूते वहीं खरीदने चाहिए जो पैरों के लिए आरामदायक हों.


Previous Post Next Post