तेलंगाना की 119 सीटों पर वोटिंग जारी, हैदराबाद में ओवैसी और KCR की बेटी के. कविता ने डाला वोट


हैदराबाद
: Telangana Assembly Elections 2023 Voting: तेलंगाना की 119 विधानसभा सीटों के लिए आज, गुरुवार को मतदान हो रहा है. वोटिंग सुबह 7 बजे से शुरू हो चुकी है, जोकि शाम 5 बजे तक जारी रहेगी. इस दौरान 3 करोड़ 26 लाख से ज्यादा लोग आज वोट डालेंगे. मतदान के लिए राज्यभर में 35655 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. तेलंगाना में कुल 2,290 उम्मीदवार चुनावी मैदान में दांव आजमा रहे हैं. 2014 से तेलंगाना पर राज कर रही बीआरएस एक बार फिर से सत्ता पर काबिज होने के लिए उत्सुक है, तो वहीं कांग्रेस ने भी अपना पूरा दमखम लगा दिया है. बीजेपी भी दक्षिणी राज्य में सत्ता पर काबिज होने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है.

मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :

तेलंगाना में मतदान का समय अलग-अलग है. राज्य के 106 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान गरुवार को सुबह 7 बजे शुरू होकर शाम 5 बजे तक चलेगा, जबकि वामपंथी उग्रवाद प्रभावित 13 निर्वाचन क्षेत्रों में सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक वोट डाले जाएंगे.

तेलंगाना के सीएम केसीआर, उनके मंत्री बेटे केटी रामाराव, बीजेपी के बंदी संजय कुमार और डी अरविंद, राज्य कांग्रेस अध्यक्ष ए रेवंत रेड्डी की किस्मत दांव पर है. राज्य में मुकाबला त्रिकोणीय है. 

तेलंगाना में सत्तारूढ़ भारत राष्ट्र समिति ने सभी 119 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं. सीट बंटवारा समझौते के तहत बीजेपी  111 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. बाकी 8 सीटों पर एक्टर पवन कल्याण की अगुवाई वाली जन सेना चुनाव लड़ रही है.

तेलंगाना में कांग्रेस 118 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. जबकि कांग्रेस ने अपनी सहयोगी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (BKP) को एक सीट दी है.

 तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव दो निर्वाचन क्षेत्रों गजवेल और कामारेड्डी से चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि वर्तमान में वह विधानसभा में गजवेल का प्रतिनिधित्व करते हैं.

बीजेपी ने गजवेल में सीएम केसीआर के खिलाफ अपने चुनाव अभियान अध्यक्ष एटाला राजेंद्र को मैदान में उतारा है. लोकसभा सदस्य रेवंत रेड्डी कोडंगल से भी चुनाव लड़ रहे हैं, इस सीट का वह पहले भी प्रतिनिधित्व कर चुके हैं.

केसीआर की बीआरएस 2014 से शुरू हुए अपने विजयरथ को जारी रखने पर पूरा फोकस कर रहा है, जबकि कांग्रेस 2018 के बाद फिर से सत्ता वापसी के लिए बेताब है. दरअसल पिछली यूपीए सरकार ने ही तेलंगाना को राज्य का दर्जा दिया था.

असदुद्दीन ओवैसी की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिममीन (AIMIM) पार्टी 9 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. AIMIM ने हैदराबाद शहर के 9 निर्वाचन क्षेत्रों में अपने उम्मीदवार उतारे हैं.

तेलंगाना में पहली बार दिव्यांगों और 80 साल से ज्यादा उम्र के वोटर्स को घर पर ही वोट डालने की सुविधा मिलेगी. निर्वाचन आयोग के आदेश के मुताबिक आज आईटी कंपनियों समेत सभी निजी प्रतिष्ठानों को की छुट्टी घोषित की गई है. 

तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए 2.5 लाख से ज्यादा कर्मचारियों तो ड्यूटी पर तैनात किया गया है,, यह जानकारी मुख्य निर्वाचन अधिकारी विकास राज ने दी. वहीं वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होगी.

Previous Post Next Post